Saturday, 2 November 2013


















कल दीवाली हैं ...
=========

दीप ......
बहुत से हैं जले हुए,
कुछ कल जल जायेगे 
युद्ध ......
अंधकार से जारी हैं
और कल भी जारी रहेगा
फिर भी अन्धकार तो मिटा नहीं
तो क्या युद्ध करना छोड़ दे
नहीं ना .......
आज ही खबर आई
एक शहर को दर्पण से आलोकित किया
जो सदियों से अंधकार में था
अर्थात ........
यद्ध करने से विजय प्राप्त होती है....

फिर भी
अपने अंतःकरण
में एक दीप अवश्य
आलोकित करना
अहम् के हनन हेतु
चिंतन मनन हेतु

रामकिशोर उपाध्याय

दो नवम्बर २०१३ 

2 comments:

  1. दीप तो सदा जलता रहना चाहिए ... बहुत खूब ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिगंबर नासवा जी सराहना के लिए आभार.

      Delete