Tuesday, 23 April 2013

!!!! लुट गया हैं चमन मेरा ये खुशबू बांटते- बांटते !!!!


डूब गया है दिल मेरा तेरा अक्स देखते -देखते
लुट गया हैं चमन मेरा ये खुशबू बांटते- बांटते 

आने से तुम्हारे मानो  मंजिल आ गयी थी पास में
कैसे भूलूँ वो  हसीन लम्हे जो गुजरे तेरे आगोश में
                                                     काटी है सदियाँ  कई  रातों में  जागते -जागते
                                                     लुट गया हैं चमन मेरा ये खुशबू बांटते- बांटते (1 )

कहते थे दिल मेरा ,तुम्हारी ही  अमानत
हमारे लिए ले लेंगे ज़माने से भी अदावत 
                                                     रूठ  गयी तू मुझसे क्यूँ  इतना चाहते -चाहते
                                                     लुट गया हैं चमन मेरा ये खुशबू बांटते- बांटते (2 )
फिर आज बादल घिरे, फिर छाई  तन्हाई
दिल में छिपाकर जी रहा हूँ तेरी  बेवफाई
                                                      कहाँ खो गए वो दिन और वो  प्यारी -प्यारी राते
                                                       लुट गया हैं चमन मेरा ये खुशबू बांटते- बांटते  (3)

हो जायेंगे रुखसत हम जहाँ से बस तेरा नाम लेकर
उतर जाता है ज्यूं मांझी भंवर में अपनी नांव खेंकर 
                                                        मिलेंगे अब बहिश्त में बस  तेरा दर  ढूंढते -ढूंढते 
                                                        लुट गया हैं चमन मेरा ये खुशबू बांटते- बांटते   (4 )  


डूब गया है दिल मेरा तेरा अक्स देखते -देखते
लुट गया हैं चमन मेरा ये खुशबू बांटते- बांटते 


( यह गीत लिखने का प्रयास है, अच्छा लगे तो प्रशंसा और ठीक न लगे तो सुझाव की अपेक्षा रहेगी)

राम किशोर उपाध्याय 
23-4-2013

6 comments:

  1. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज बुधवार के बुधवारीय चर्चा ( 1224 ) ----- यह कैसी दरिंदगी घुली घुली फिजां में ..(मयंक का कोना) पर भी होगी!
    सादर....।
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"

    ReplyDelete
  2. डूब गया है दिल मेरा तेरा अक्स देखते -देखते
    लुट गया हैं चमन मेरा ये खुशबू बांटते- बांटते

    सुन्दर प्रस्तुति ..........

    ReplyDelete
  3. मंगलवार 28/01/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी एक नज़र देखें
    धन्यवाद .... आभार ....

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर.......

    ReplyDelete