Monday, 23 August 2021

हायकु

 1.

सकूरा पुष्प

बसन्त आगमन

विश्व मुदित

2*

सकूरा पुष्प

संस्कृति भी महान

जापानी जादू

3*

ख़ुशी संचार

रंगों की है बहार

भिन्न प्रकार

4*

पेड़ हैं लदे

सुन्दरता का दर्प

झूमी धरती

5*

सकूरा दृष्ट

सभी हैं मदमस्त

मृदंग व्यस्त

6*

भूमि महान

लुटता है किसान

जीना मुहाल

7*

झाड़ू है चोखा

किसान का है धोखा

भोपूं है चीखा

8*

सत्ता नाटक

लाश पे सियासत

नज़र वोट  

9*

है  बदलाव
सर्दी की ठिठुरन 
बर्फ  अलाव
10*

 नया जुगाड़
 घोडा चलता  पीछे
टमटम के  

11*

होती बरखा
पतझड़ के बाद
नया मौसम .
12*
आज की सत्ता 
नेता बनता  स्वार्थी
प्रजा बाराती .
13*
शासन मौन
जनता पलायन
है सुशासन

14*

लोकसेवक
मिथ्या ही पहचान
माया गबन

15*

जीवनलता

पुष्प- फल असंख्य

सीमित प्राप्ति

16*

मदन मस्त

प्रेमलता व्याकुल

वर्जना बाधा

17*

अश्रु की धार

जगत अत्याचार

प्रेम लाचार

*

रामकिशोर उपाध्याय


Monday, 15 March 2021

वो कौन थी ? ----------

 

न तो उससे पहले मिला था
न शायद फिर कभी मिलूँगा
मगर उसकी देह को स्पर्शकर
आया था सुगंध का इक झोंका .........

वो शायद मत्स्यगंधा थी
मेनका थी या फिर रम्भा थी
वो प्रेम सरोवरों में पम्पा थी
वो कामदेव की प्रिय चंपा थी ............

वो कोयल की कूक थी
वो मन की अनकही भूक थी
किसी बहती नदी का पानी थी
सागर की लहरों की रवानी थी ..........

वों स्वप्न सरीखा परिंदा थी
जो दिन के उजालों में भी जिंदा थी
जिस्म में वो धडकन थी
उम्र में वो यौवन और बचपन थी ....

वो नाम न पहले सुना था
और न कहीं लिखा होगा
न किताबों में किस्सा थी
वो तो कल्पना का हिस्सा थी ....

वो कौन थी ?
न आंधी और न गुम हवा थी
वो मेरे हर दर्द की दवा थी
वो सन्नाटे में चीखता मेरा मौन थी .........
*
रामकिशोर उपाध्याय

Thursday, 18 February 2021

आदमी और पत्थर

चित्र गूगल से साभार )


राह चलते- चलते

अनेक पत्थर मिलते हैं
कहीं धूप में तपते
तो कहीं चांदनी को तरसते
कहीं मूर्तिकार की महीन छेनी से कटते
और वांछित आकार न मिलने पर आंसू बहाते
कहीं नदी में तैरते और रगड़ खाकर भी
शालिग्राम न बन पाने पर विधना को कोसते

पत्थर ......
कहीं बर्फ़ के तले जमते
और धूप को ढूंढते
कहीं सड़क में बिछते
और राजमार्ग न कहलाने पर विक्षुब्ध होते
कहीं किसी भवन की नींव में खपते
और हवा को तड़पते
कहीं ज्वालामुखी बन फटते
और ग्लेशियर को समेटने की पीड़ा पाते
और बहती नदी को रोकने के लिए होते अभिशप्त
तो खुली सड़कों पर ठोकर खाते
पत्थर ,,,,

पत्थर का मानव से ,,,,
शाश्वत सम्बन्ध है
वही संबंधों को समेटने की पीड़ा ,
वही उपादेयता का प्रश्न
और वही परिचय का संकट
कभी एक गुमनाम हवेली की नींव में लगा
तो कहीं एक मंदिर में गड़ा
पत्थर सा इन्सान,,,
जिसकी जीवंत अभिलाषाएं
मूक होकर नभ को ताकती रहती हैं
अनंत तक ...
मूर्त होने का क्षण
*
रामकिशोर उपाध्याय


Thursday, 1 October 2020

Farmer's Plight

The bread that fills our belly

The spices which trigger the buds naturally 

The juicy fruits we taste 

Does it come before us in haste ?

No ,no ,

It comes when Mother earth becomes pregnant of  the seeds

As a fruit of good manly deeds  

The sky showers the rain and pour the dew 

Comes out the shoots new 

Earth wears  a green spangled  gown and sari and smiles in joy

And it comes only  when farmer tills the earth  with hard plough 

And  toils for hours and days 

During winter ,heavy rain and even in  stinging sun rays 

His clothes are drenched with  saline body drops 

Like spring  running on slops

Then come the sweet crops 

But people treats him with  cannons and bats 

Like ants and rats 

To the capitalist delight 

Forgetting the farmer's plight 

But never try to dismiss his right 

For price fair for his children' future  bright 

He may turn day into night 

As he also knows his might 

=

(C)Ramkishore Upadhyay

Saturday, 19 September 2020

रहस्योद्घाटन ??


कल सुबह जब घूमने पार्क में निकला तो देखा कि एक गाय खड़ी है। वैसे इस पार्क में  मैंने पहले कभी एक कुत्ता या बिल्ली भी नहीं देखी थी । अतः एक गाय का वहाँ होना अचंभा था। गाय से शरीर से जेर (गर्भनाल ) लटकी हुई थी जिससे यह अनुमान लगाना कठिन नहीं था कि उसने एक बछिया या बछड़े को जन्म दिया होगा । अगला चक्कर पूरा करते हुए  जब उसी स्थान के निकट आया तो ध्यान से देखा कि वहाँ उसका बच्चा पड़ा था जिसे वह  चाट रही थी और मुझे देखकर चौकस हो गयी। बच्चा खड़े होने का प्रयास कर रहा था और गाय उसे चाट -चाटकर उठने के लिए भी उत्साहित कर रही थी। माँ का  ममता के साथ सहलाना उनमें शक्ति का संचरण कर रहा था। थोड़ी देर बाद वह खड़ा हो गया। थोड़ी देर गाय अवश्य की बछड़े को लेकर इस इंसानी पार्क से निकलकर अपने मालिक के पास चली गयी होगी।उसका मालिक जरूर कोई दूध का लालची और लापरवाह इंसान रहा होगा,वरना अपनी इस दुधारू गाय को ऐसे क्रिटिकल समय में यूँ ही नहीं छोड़ देता।बचपन में गांव में गाय पाली हैं इसलिए दुख भी हुआ यह देखकर। यह  बात तो बड़ी मामूली सी है  और ममत्व के ऐसे उदाहरण भी हर मादा में रोज देखते ही हैं। यह हमारे जीवन का हिस्सा है।फिर भी न जाने क्यों मुझे यह दृश्य प्रभावित कर गया । घर आकर पत्नी को जब यह किस्सा सुनाया उस समय वह मेरे लिए चाय बना रही थी । उसने मुझे पूछा कि आपको पता नहीं इस विषय में। मेरे इस विषय में जानकारी से  इनकार करने पर एक लघु लोक कथा सुना दी । 


बहुत पहले (हो सकता है सतयुग )की बात है कि एक गांव में एक गाय ने एक बच्चे को जन्म दिया। बच्चा जमीन पर पड़ा था। प्रसूति के बाद गाय अपने आप को अशक्त अनुभव कर रही थी। तभी उसने एक महिला को पास से गुजरते हुए देखा तो आवाज दी । "बहन , जरा मेरे बच्चे को उठाकर खड़ा कर दे । " महिला ने इनकार करते हुए कहा कि तेरा बच्चा गंदा है। मेरे कपड़े और हाथ खराब हो जाएगी।"

गाय ने कहा ," ठीक है। मैं तो अपने बच्चे को चाट- चाटकर खड़ा  कर लुंगी। और तुझे यह शाप देती हूं कि तेरा बच्चा तीन साल से पहले ठीक से चलने -फिरने लायक नहीं होगा।" पत्नी ने बात को तार्किकता से आगे बढ़ाते हुए कहा कि  हमारे  बच्चे साल भर तक तो सामान्यतया खड़ा होने में लेते हैं और ठीक- ठाक से चलने में आगे और  दो साल ले ही लेते हैं।यह गाय का शाप हर स्त्री को लग गया ।बात में दम लगा कि  गाय को  जब अपने बछड़े को चाट- चाट कर खड़ा करते देखा ।  लगता है कि गाय युगों से अपनी संतान को इसी तरह सहारा दे रही है और स्त्री जाति को अभी भी अपनी संतानों की  ठीक से आरंभिक परवरिश करने में तीन साल तक कष्ट उठाने ही पड़ रहें है। मैं अपनी वैज्ञानिक दृष्टि से समझता हूँ कि  यह  बालविकास की स्वाभाविक जीव वैज्ञानिक प्रक्रिया है । किन्तु इसे गाय का मानव जाति के प्रति शाप या अभिशाप नहीं है,यह भी मैं नहीं  कह सकूंगा,क्योंकि  मित्रो,पत्नी, जो स्वयं  माँ भी है, की बात को काटना कितना मुश्किल होता है,यह आप सब जानते हैं।हम लोग मिथकों को एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक इसी तरह पहुंचाते रहते हैं और अपनी मिथकीय समझ को देशकाल और परिस्थितियों के अनुरूप  विकसित करते रहते हैं । हाँ, यह एक निर्विवाद सर्वकालिक सत्य है कि माँ की ममता में अभूतपूर्व जीवनदायनी शक्ति होती है जो बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान करती है।

*

रामकिशोर उपाध्याय 

Saturday, 13 June 2020

चौधरी चरण सिंह को 33 वीं पुण्यतिथि पर याद करते हुये

Image may contain: DrAshwani Bhan, close-up

भारत के पूर्व प्रधान मंत्री चौधरी चरण सिंह को किसान नेता के रूप में लोग जानते है | कृषि अर्थशास्त्र के वे अच्छे ज्ञाता तो थे ही | मैं उनका दो विशेष कारणों से स्मरण करता हूँ ...
* चौधरी चरण सिंह भी मेरठ कालेज,मेरठ (जो उनके समय में आगरा विश्वविद्यालय से सम्बद्ध था,बाद में मेरे समय में मेरठ विश्वविद्यालय और अब उनकी स्मृति में चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय कहलाता है ) के छात्र रहें,जहां से मैंने भी बाद में बी.एससी.और एम. ए. की उपाधियाँ प्राप्त की | यह अहसास मुझे एक अलग सी गर्वांनभूति प्रदान करता हैं |
* उनकी रेलवे के प्रति विशेष लगाव के लिये ,मैं उनको याद करता हूँ | भारत के वे पहले प्रधान मंत्री बने जिन्होने रेल कर्मियों को बोनस देने की घोषणा की और रेलवे के लाखों परिवार लाभान्वित हुये | एक रेलकर्मी होने के नाते मैं उनके प्रति श्रद्धा रखता हूँ |
*
रामकिशोर उपाध्याय

संस्मरण ,,,,,,,,,,,,,गीदड़ को शेर बनाने का इंजेक्शन


उस जमाने की बात है जब मैं रेलवे अधिकारी फेडरेशन का एक अदना सा पदाधिकारी हुआ करता था।फेडरेशन एक पत्रिका भी निकालती थी ,सो उसके संपादन का काम भी मुझे दे दिया गया। रेलवे अधिकारियों के एक समूह की समस्याओं के निराकरण के सिलसिले में चैयरमैन रेलवे बोर्ड और रेल मंत्री से अपने बड़े पदाधिकारी के साथ मिलने भी कभी कभार जाना पड़ जाता था। अपनी जोनल रेलवे के महाप्रबंधक से तो अक्सर मिलते ही थे। अधिकारियों और कर्मचारियों की वाजिब समस्याओं और मांगों के निपटान हेतु रेल मंत्रालय की एक विशिष्ट नीति और प्रक्रिया है। उसी के तहत हम लोग कार्य भी करते थे और अन्याय का विरोध भी करते थे। आप यह सोच रहे होंगे कि अधिकारी तो स्टाफ को ही कष्ट देता है,खुद कभी कष्टमय या समस्याग्रस्त कैसे हो सकता है। सारे कानून ,कायदे तो अधिकारी ही बनाते है। मगर दोस्तों ऐसा सोचना सरासर गलत है। अधिकारी भी अपने प्रमोशन,नियुक्ति और जनहित में आवश्यक अन्य सुविधाओं के लिए उद्वेलित होते रहे हैं। इतिहास इस बात का साक्षी है। किसी जमाने में आपने एक आईएएस अधिकारी का केस तो सुना होगा जो बोट क्लब पर भूख हड़ताल तक पर बैठ गया था। यह बोट क्लब धरने और रैलियों के लिये तो कब का बन्द हो चुका है।सिर्फ सैर सपाटे के लिये यह जगह अब रह गई है। ज्ञातव्य हो यह बोट क्लब कभी भारतीय लोक की तंत्र के सामने अपनी बात रखने का एक प्रमुख तीर्थ था। कई विशाल रैलियां मैंने यहाँ देखी, जिन्होंने सत्ता में परिवर्तन तक किया। अतीत में हम लोगों ने कई बार इस बोट क्लब,बाद में जंतरमंतर और रेलवे के मुख्यालयों पर धरना दिया। एक बार तत्कालीन वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा के द्वारा रेलवे के पास और पीटीओ को आय में शामिल करने के तुगलकी फरमान के खिलाफ पूरी भारतीय रेलों और उत्पादन इकाइयों के गैंगमैन से जनरल मैनेजर तक धरने पर एक साथ बैठे ,यह भी इतिहास इस देश में बना। एक बार रेल मंत्री के द्वारा रेल दुर्घटना के विषय में एक महाप्रबंधक के गैर जरूरी स्थानांतरण पर लंबा मार्च भी निकाला। काली पट्टी बांधकर तो बहुत बार काम किया। पदाधिकारियों के लिए यह करना आम बात है,किन्तु रेलवे की उत्पादन क्षमता और यात्री तथा माल परिवहन को कभी प्रभावित नहीं होने देते। और न ही आपने सुना होगा कि रेलवे अधिकारियों के आंदोलन के कारण रेल यातायात बन्द हो गया। यह बड़ा ही अनुशासित कैडर है। रेल मंत्रालय नियमानुसार वर्ष में दो बार रेलवे अधिकारी फेडरेशन की कार्यकारिणी को बैठक करने की इजाज़त देता है। इन बैठकों में फेडरेशन की गतिविधियों पर गम्भीर चर्चा होती है और भविष्य की रणनीति बनाई जाती है। उस समय श्री सुशील कुमार बंसल हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष थे। बंसल साहेब शुरू से ही अपने जुझारूपन के लिए विख्यात है। 75 बसंत देख चुके बंसल साहेब में यह जज्बा आज भी कायम है। बंसल साहेब 2005 में सेवा निवृत्त हो गए ,किन्तु अधिकारियों और पेंशनरों के हित में आज भी पूरी तरह सक्रिय है। सभी संगठनों को उचित सलाह देने में कभी नहीं चूकते है,भले ही कोई बुरा मान जाए । वे अलोकप्रिय होने की हद तक जाकर अपनी बात कहते है। हम लोग उनको पितातुल्य सम्मान देते रहे और उनके डांटने फटकारने का बिल्कुल बुरा नहीं मानते ।मुझे तो आज भी उनसे पुत्रवत स्नेह मिलता है।
सन 2003 में फेडरेशन की एक बैठक त्रिवेंद्रम में आहूत की गई ।इसमें सभी रेलवे के नामित पदाधिकारियों ने भाग लिया। त्रिवेंद्रम को अब तिरुवनंतपुरम कहते हैं।यह भारत के सुदूर दक्षिण राज्य केरल की राजधानी है। यहां का कोवलम बीच सबसे सुंदर है। यहां समुद्र का जल गहरा नीला साफ सुथरा है जिसमें आप मछलियाँ और अन्य जैविक संपदा स्पष्टरूप से देख सकते है। इस शहर की रमणीकता और दक्षिण रेलवे अधिकारी संगठन की इच्छा पर यह शहर बैठक के लिये चुना गया।राजधनी एक्सप्रेस से हम यहाँ पहुंचे । लम्बी यात्रा की थकान और पूरे दिन की व्यस्त बैठक के बाद हम जल्दी ही सो गए। अगले दिन सुबह हम कुछ अधिकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री सुशील बंसल के ऑफिसर्स गेस्ट हाउस में अलोटेड कमरें में उस दिन होने वाली कार्यवाही की चर्चा करने हेतु धमक गए । एक युवा अधिकारी ने उनसे पूछा कि सर रेल प्रशासन से आप कार्य किस तरह निकलवा लेते हो,हमें भी कुछ समझाओ । बंसल साहेब इस विषय मे अपना एक अनुभव शेयर कर रहे थे। तभी एक जोनल रेलवे संगठन के अध्यक्ष (मेरे मित्र है अतः नाम लिखना नहीं चाहता। वैसे भी व्यक्ति नहीं विषय का अधिक है।) ने कहा कि बंसल साहेब हमारी तो महाप्रबंधक के सामने जाते ही घिग्गी बन्ध जाती है ।क्या करें? बंसल साहेब थोड़ा सपाट बयानी करते हुए (और इसी कारण अलोकप्रिय होने का आरोप झेलते हैं)।कहने लगे कि भाई हिम्मत तो खुद ही जुटानी पड़ती है। चुने हुए पदाधिकारी हो । नेतृत्व करना आसान काम नहीं होता है। उसे वर्गहित में साहसी,जुझारू और संघर्षशील होना ही पड़ता है,वरना उसको न तो शासन /प्रशासन सम्मान देता है और न ही उसका कैडर इज्जत करता है। और भाई,अभी तक गीदड़ को शेर बनाने का इंजेक्शन ईजाद नहीं हुआ है,वरना तुम्हें अभी लगा देता । यह सुनकर उनके कमरे में हंसी का फव्वारा फूट पड़ा। हमारे मित्र का चेहरा तो देखने लायक था। बंसल साहेब भी हँस पड़े और बाद में उस अधिकारी का ठीक से पुत्रवत मार्गदर्शन किया।
*
रामकिशोर उपाध्याय